भारत हमेशा से विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी क्षेत्र में अग्रसर रहा है। चाहे वो सी.वी.रमन हों या ए.पी.जे. अब्दुल कलाम समय समय पर भारत ने विश्व को विज्ञान के क्षेत्र मेंएक सितारा दिया है। जब से भारत के वैज्ञानिकों ने 108 उपग्रह अन्तरिक्ष में स्थापित किए हैं, विज्ञान की पढ़ाई को लेकर लोगों में एक अलग तस्वीर बनी है। भारत के वैज्ञानिक ISRO एवं DRDO में कमाल दिखा रहे हैं एवं विद्यार्थियों को अलग अलग माध्यम से इन वैज्ञानिकों से मिलने का सरकार की तरफ से मौका मिलना भी विद्यार्थियों में विज्ञान के प्रति सोच एवं आकर्षण का कारण बना है।सरकार भी नए अनुसंधानों पर काफी खर्च कर रही है। वैज्ञानिक अनुसंधान में संभावनाएं बहुत हैं। दैनिक जीवन में भी इसका बहुत उपयोग है। हमारे आसपास बहुत सी ऐसी समस्याएं हैं, जिनका समाधान हम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी से ढूंढ़ सकते हैं। वैसे तो विज्ञान के क्षेत्र में आज भी engineering एवं मेडिकल का बोलबाला है लेकिन B.Sc. करने के बाद मिलने वाले अवसरों को देखकर बहुत से विद्यार्थियों का इसकी तरफ रुझान रहा है।
बी.एससी. क्या है
बी.एससी. एक तीन साल का ग्रेजुएशन कोर्स है। जो math एवं बायोलॉजी में किया जाता है। B.Sc.के तहत छात्र B.Sc. (सामान्य/ पास कोर्स) और B.Sc. (ऑनर्स) कोर्सेज में से अपने लिए उपयुक्त कोर्स चुन सकते हैं.बी.एससी. को कई और professionalbranches में भी किया जा सकता है जैसे एनीमेशन,एग्रिकल्चर, बायोटेक, नर्सिंग, बायोकैमिस्ट्रि, बायोइन्फॉर्मैटिक्स, जेनेटिक्स, फ़ैशन टेक्नालजी, मल्टिमीडिया, साइकॉलजी, स्टेटिस्टिक्स, एवं कम्प्युटर साइन्स आदि।
B.Sc. कोर्स के फ़ायदे क्या हैं
ये एक तीन साल का ही कोर्स है। इस कोर्स को करने के बाद मास्टर कोर्स के लिए M.Sc. करने के बहुत से अवसर मिल जाते हैं। अगर कोई स्टूडेंट अपना फील्ड अलग करना चाहता है तो वह MBA में भी एड्मिशन ले सकता है।
Additional कोर्स options
B.Sc. के साथ अगर कोई स्टूडेंट अपनी हॉबी जैसे फ़ैशन डिज़ाइन, इनटिरियर डिज़ाइन, जूलरि डिज़ाइन, जर्नलिज़्म, मेडिकल लैबोरेटरी technician, इवैंट मैनेजमेंट आदि कोर्स के डिप्लोमा या सर्टिफिकेट भी ले सकता है इससे उसके कैरियर में और अवसर खुल जाते हैं

स्कॉलर्शिप
सरकार की तरफ से बहुत सारी स्कीम हैं जिनके तहत एक मेधावी छात्रअपनी पढ़ाई जारी रख सकता है। इन स्कॉलर्शिप के तहत एक विद्यार्थी का पढ़ाई का सारा खर्च भी सरकार उठाती है। कई स्कीम के तहत छात्र मास्टर प्रोग्राम भी कर सकते हैं।
गवर्नमेंट जॉब्स के ऑफर
B.Sc. करने के बाद एक स्टूडेंट गवर्नमेंट जॉब्स के लिए भी अप्लाई कर सकता है। IAS,RAS,RBI Grade B, Railways, बैंक P.O., एसएससी, पुलिस,defence, एलआईसी, एवं रिसर्च अनुसंधान क्षेत्र इत्यादि में अवसर तलाश सकता है।
अलग क्षेत्रों में भी अवसर
साइन्स के अलावा भी कई ऐसे क्षेत्र है जिसमे B.Sc. के छात्र अपने लिए अवसर तलाश सकते हैं। इनमे इन्शुरेंस, आईटी, मेडिकल लेब्स, कॉर्पोरेट, शिक्षा एवं खुद का बिज़नस करना सम्मिलित है।
BSc ग्रेजुएट्स के लिए उपलब्ध होते हैं ये खास जॉब ऑफर्स
• शैक्षणिक संस्थान
• अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान
• अस्पताल
• हेल्थ केयर प्रोवाइडर्स
• फार्मास्युटिकल्स और जैव प्रौद्योगिकी उद्योग
• रासायनिक उद्योग
• पर्यावरण प्रबंधन और संरक्षण
• फोरेंसिक अपराध अनुसंधान
• रिसर्च फर्में
• टेस्टिंग लैबोरेट्रीज
• भूगर्भीय सर्वेक्षण विभाग
• वेस्टवाटर प्लांट
• एक्वैरियम
• वन सेवाएं
• तेल उद्योग

ये हैं BSc ग्रेजुएट्स के लिए विशेष जॉब प्रोफाइल्स
• वैज्ञानिक
• वैज्ञानिक सहायक
• रिसर्च एनालिस्ट्स
• शिक्षक
• तकनीकी लेखक / एडिटर्स
• लेक्चरर्स
• केमिस्ट
• एन्युमेरेटर्स
• रिसर्चर्स
• बायोस्टैटिस्टिशियन
• क्लिनिकल रिसर्च मैनेजर
• सलाहकार

वैसे तो B.Sc. कोर्स करने के और भी ढ़ेरों फायदे है, लेकिन ज़्यादातर छात्रो को इस बारे में पूर्ण जानकारी का अभाव होता है। इसलिए ये पैरेंट्स, एवं शिक्षाविदो की ज़िम्मेदारी हो जाती है कि वो छात्रों को कॉलेज एवं universities में ऑफर होने वाले सभी कौरसेस कि सम्पूर्ण जानकारी छात्रों के साथ साझा करें एवं उन्हे सही कैरियर का चुनाव करने मैं सहायता करें।
जयपुर, राजस्थान स्थित पोद्दार इंटरनेशनल कॉलेज का नाम राजस्थान के टॉप कॉलेज में आता है. Qualityeducation के लिए इसे UGC द्वारा NAACaccreditation भी मिला है। यह कॉलेज यूजीसी के सेक्शन 12(B) एवं 2(f) में भी approved है। यहाँ राजस्थान यूनिवरसिटि से मान्यता प्राप्त B.Sc. कोर्स कराया जाता है। यहाँ यह कोर्स मैथ्स एवं बायोलॉजी में उपलब्ध है।
रेगुलर क्लासेस के अलावा यहाँ छात्रों को सरकारी नौकरी के लिए होने वाली प्रतियोगी परीक्षायों की फ्री कोचिंग विषय विशेषज्ञों द्वारा कराई जाती है। इसके साथ ही सभी विद्यार्थियों को इंग्लिश कम्युनिकेशन, कम्प्युटर ट्रेनिंग एवं अन्य valueadded कोर्स कराएं जाते है जिससे उनका overalldevelopment हो सके।
विद्यार्थियों के लिए यहाँ स्मार्ट classrooms हैं जिनमे PPT एवं विडियो लैक्चर टेक्नालजी, गूगल क्लासरूम आदि के माध्यम से पढ़ाई की जाती है। साइन्स लेब्स में लेटैस्ट equipmentहैं जिनसे विद्यार्थियों को विभिन्न प्रकार के प्रेक्टिकल एवं शोध कराये जाते हैं। ट्रेनिंग एवं प्लेसमेंट सेल, रिसर्च सेल, स्पोर्ट्स, एवं कल्चरल सेल इत्यादि स्टूडेंट सेल के माध्यम से विद्यार्थियों का स्किलल डेव्लपमेंट किया जाता है। समय समय पर जॉब फेयर, कैम्पस प्लेसमेंट एक्टिविटी में भी स्टूडेंट्स को मौका दिया जाता है जिससे वो अपने लिए एक वैकल्पिक कैरियर तैयार कर सकें। विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी विभाग द्वारा स्थापित incubation सेंटर में स्टूडेंट्स को नए शोध जो कि आगे प्रॉडक्ट के रूप में डिवैलप किए जा सकें की ट्रेनिंग भी विशेषज्ञों द्वारा दी जाती है।
इस तरह स्टूडेंट्स को बहुत से अवसर मिलते हैं एवं वह अपने लिए सही कैरियर बनाने में सफल हो जाता है। अधिक जानकारी के लिए एक विद्यार्थी www.poddarinstitute.org साइट visit कर सकता है अथवा 9116038880 या 9414073127 पर संपर्क करके couselor से जानकारी प्राप्त कर सकता है।

Visit: https://poddarinstitute.org/

Author's Bio: 

Poddar is a conglomerate of 6 institutions imparting knowledge in different disciplines, for over 21 years.